Swami Shriharidas Sampradya

स्वामी श्री हरिदास शिष्य परम्परा के आचार्य एवम महंत के नाम इस प्रकार है और संछिप्त जीवन परिचय के लिए नाम पर क्लिक करें :

 

जानकारी ” श्री टटिया धाम ” पुस्तक से ली गयी है , यह पुस्तक श्री सहदेव चतुर्वेदी जी द्वार लिखी गयी है , प्रकाशक  श्री महेन्द्रनाथ जी गोयल हैं.

वर्तमान में महंत श्री किशोरदास महाराज जी ठाकुर श्री गोरेलाल जी कुंज के महंत हैं. ठाकुर श्री गौरेलाल जी कुंज ठाकुर श्री रसिकबिहारी मंदिर के समीप हैं। कुंज में ठाकुर श्री गौरेलाल जी एवम ठाकुर श्री रसिकशिरोमणि जी के विग्रह हैं.


स्वामी श्री हरिदास जी महाराज

स्वामी श्री विट्ठल विपुल देव जी
स्वामी श्री विहारिन देव जी
स्वामी श्री सरस देव जी
स्वामी श्री नरहरि देव जी
स्वामी श्री रसिकदेव जी

श्री गोरीलाल जी कुंज

श्री टटिया स्थान

श्री रसिक बिहारी जी मंदिर

स्वामी श्री गोविन्द देव जी स्वामी श्री ललित किशोरी देव जी स्वामी श्री पीताम्बर देव जी
स्वामी श्री मथुरा नाथ जी स्वामी श्री ललितमोहिनीदास जी स्वामी श्री हरी देव जी
स्वामी श्री प्रेमदास जी स्वामी श्री चतुरदास जी स्वामी श्री गोवर्धनशरण देव जी
स्वामी श्री जयदेव दास जी स्वामी श्री ठाकुरदास जी स्वामी श्री कृष्णशरण देव जी
स्वामी श्री श्यामचरण दास जी स्वामी श्री राधिकाशरण देव जी स्वामी श्री नरौतमशरण देव जी
स्वामी श्री हरनाम दास जी स्वामी श्री सहचरिशरण देव जी स्वामी श्री निम्बर्कशरण देव जी
स्वामी श्री गोपीवल्लभ दास जी स्वामी श्री राधाप्रसाद देव जी स्वामी श्री जगन्नाथशरण देव जी
स्वामी श्री बलराम दास जी स्वामी श्री भगवानदास देव जी स्वामी श्री ललितशरण देव जी
स्वामी श्री गुलाभ दास जी स्वामी श्री रणछोड़दास जी स्वामी श्री गंगाशरण देव जी
स्वामी श्री हरि कृष्णा दास जी स्वामी श्री राधारमण दास जी स्वामी श्री लाडलीशरण देव जी
स्वामी श्री दामोदर दास जी स्वामी श्री राधाचरणदास जी स्वामी श्री राधाशरण देव जी
स्वामी श्री बालक दास जी स्वामी श्री नवलदास जी स्वामी श्री वृन्दावनशरण देव जी
स्वामी श्री किशोरी दास जी - -

उपरोक्त दी गयी जानकारी ” श्री टटिया धाम ” पुस्तक से ली गयी है , यह पुस्तक श्री सहदेव चतुर्वेदी जी द्वार लिखी गयी है , प्रकाशक  श्री महेन्द्रनाथ जी गोयल हैं.

Comments are closed.